वास्तव में मानव व्यक्तित्व दो प्रभावी तत्वों वंशानुक्रम व वातावरण की देन है। कोल तथा ब्रूस के अनुसार जीव गर्भधारण के समय से ही वंशानुगत क्षमता के अनुसार ही संवेदनशील, सक्रिय रहने वाला, प्रभावी व्यक्तिक के रूप में विकसित होता है। इस विकास  के साथ यह शर्त भी है के उसका वातावरण इसके विकास के लिए आवश्यकतानुसार साधन तथा उद्दीपन का प्रावधान करे।




वातावरण का अर्थ:- 

वातावरण का महत्व:-

Post a Comment Blogger

 
Top