CTET Exam Notes : Child Development and Pedagogy (CDP) in Hindi Medium 

Topic  : Individual differences among learners


पिछली पोस्ट हमने सीखा कि  मूल्यांकन  की संकल्पना क्या होती है? साथ ही इसकी आवश्यकता व् महत्व क्या है? अब हम मूल्यांकन के कुछ तरीको ( उपगमो) पर विचार करेंगे ।


मूल्यांकन के प्रकार


निर्माणात्मक मूल्यांकन


पढाई के दौरान अधिगम की प्रगति को जानने, समझने और सुधारने के लिए जो मूल्यांकन किया जाता है उसेशिक्षण कालीन मूल्यांकन कहते है। इसका मुख्य उद्देश्य यह होता है की अध्यापक और विद्यार्थी को लगातार यह पता लगता रहे कि पढ़ाते समय में अधिगम सफल या असफल रहा है।
अध्यापन अवधि में इस मूल्यांकन के आधार निम्न है-

  • कक्षा परीक्षण
  • छोटे-छोटे प्रश्न
  • गृह कार्य
  • कक्षा कार्य
मूल्यांकन के प्रकार, निर्माणात्मक मूल्यांकन, संकलनात्मक मूल्यांकन, निर्माणात्मक और संकलनात्मक मूल्यांकन में अंतर, मानक संदर्भित मूल्यांकन, मानदंड संदर्भित मूल्यांकन, CTET Exam 2015 Notes Hindi,  बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र, CDP Hindi Notes, सी टी ई टी नोट्स

संकलनात्मक मूल्यांकन



निर्माणात्मक और संकलनात्मक मूल्यांकन में अंतर



अवश्य पढ़े: सतत और व्यापक मूल्यांकन (CCE)

 मानक संदर्भित मूल्यांकन



मानदंड संदर्भित मूल्यांकन


<<< बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र

नोट: आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी, कृपया कमेंट करके ज़रूर बताए । 

Post a Comment Blogger

 
Top