CTET 2015 Exam Notes : TEACHING OF SOCIAL STUDIES (SST) in Hindi Medium



सामाजिक अध्ययन / सामाजिक अध्ययन की अवधारणा एवं प्रकृति

सामाजिक अध्ययन से अभिप्रायः ऐसे विषय से है जो मानवीय सम्बन्धों की जानकारी प्रदान करता है। सामाजिक अध्ययन का जन्म अमेरिका में हुआ जिसमंे भूगोल, इतिहास, राजनीति शास्त्रा तथा अर्थशास्त्रा का समावेश था। 1911 में कमेटी आॅफ टेन ने इसे समाज शास्त्र से जोड़कर सामाजिक अध्ययन बना दिया। धीरे धीरे यह विषय इंगलैंड तथा यूरोप के अन्य देशों में भी पूर्ण रूप से विकसित हो गया।

सामाजिक अध्ययन का अर्थ  (Meaning of Social Studies)

सामाजिक अध्ययन / सामाजिक अध्ययन की अवधारणा एवं प्रकृति, सामाजिक अध्ययन का अर्थ  (Meaning of Social Studies), सामाजिक अध्ययन की विशेषताएँ, सामाजिक अध्ययन शिक्षण, सीटीईटी हिंदी नोट्स, Best Free CTET Exam Notes, Teaching Of pedagogoy Notes, CTET 2015 Exam Notes, ctet Social Stidies Study Material in hindi medium, CTET PDF NOTES DOWNLOAD,  SST PEDAGOGY Notes,सामाजिक अध्ययन का शाब्दिक अर्थ हैं - ”मानवीय परिपे्रक्ष्य में समाज का अध्ययन।यह एक ऐसा विषय है जिसमें मानवीय सम्बन्धों तथा समाज के विभिन्न दृष्टिकोणों की जानकारी प्राप्त होती है। समाज में अनेक प्रकार के लोग रहते हैं जो अनेक क्रियाएं करते हैं। वह व्यवहार में भी भिन्न-भिन्न होते हैं। सामाजिक अध्ययन में हम ऐसे मनुष्यों की अनेक क्रियाओं का अध्ययन करते है। मनुष्य अपने आसपास के वातावरण के साथ सामजंस्य स्थापित करता है इसलिये मनुष्य तथा उसके वातावरण या पर्यावरण के सम्बन्धों का भी अध्ययन इसमें किया जाता हैं।

सामाजिक अध्ययन की विशेषताएँ


सामाजिक अध्ययन की प्रकृति (Nature of Social Studies)

सामाजिक अध्ययन विभिन्न विषयों का मिश्रण नहीं बल्कि एक अलग विषय है जो मानवीय सम्बन्धों तथा वातावरण के सांमजस्य की जानकारी देता है। यह लोकतान्त्रिाक नागरिकों का निर्माण करता है, देश प्रेम की भावना को विकसित करता है। राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय सद्भावना का विकास करता है। यह एक स्वतन्त्र विषय है। इस प्रकार यह एक अनुशासित विषय है जिसकी सामग्री मानव ज्ञान अनुभवों पर आधारित है।

नोटआपको हमारी पोस्ट कैसी लगीकृपया कमेंट करके ज़रूर बताए  

Post a Comment Blogger

 
Top