CTET 2015 EXAM NOTES IN HINDI MEDIUM


कथात्मक विधि-अर्थ एवं स्वरूप 


इतिहास मानव-विकास की कहानी है जिसमें आदिकाल से घटनाएं जुड़ती चली आ रही है। इस कहानी को कहानी विधि से पढ़ाना स्वाभाविक भी है और प्रभावशाली भी क्योंकि यह वर्णनात्मक विधि है। छोटे बच्चों के लिए तो यह विधि अत्यन्त उपयोगी है।
प्लेटो ने भी छोटे बच्चों के लिए इसे उत्तम बतलाया था। बच्चे स्वभाव से ही कहानी प्रेमी होते हैं कहानी उनकी जिज्ञासा और उनके कौतूहल को शान्त करती है कहानी उसे कल्पना के पंखो पर उड़ा कर ले जाती है; कहानी उन्हंे आनन्द प्रदान करती है। बडे़-बडे़ विद्वानों ने कहानी पद्धति के द्वारा ही बच्चों को पढ़ाने का सुझाव दिया हैं। रास ने प्रारम्भिक स्तर पर इतिहास शिक्षण के लिए इसी विधि को अपनाने का सुझाव दिया है।

कथात्मक विधि : Story Telling Method, कहानियों के प्रकार (Types of Stories), कहानी विधि के लाभ-सीमाएं, सीटीईटी हिंदी नोट्स, Best Free CTET Exam Notes, Teaching Of pedagogoy Notes, CTET 2015 Exam Notes, ctet Study Material in hindi medium, CTET PDF NOTES DOWNLOAD,  PEDAGOGY Notes,

एफ0आर0 वर्डस के विचारानुसार, ” 13 वर्ष की अवस्था तक के बच्चों को इतिहास पढ़ाने का मुख्य साधन कहानी होनी चाहिए।“

कहानी कहना भी कला हैं। छोटे बच्चे स्वाभाविक रुप में इन्हें याद भी कर लेते हैं। बालक नायक पूजक होता है।
वीर गाथायें कुतहल जाग्रत करती हैं, संवेगों को गतिशील बना देती हैं और बालक को सक्रिय कर देती है। साधारणतः छोटे बालक पढ़ने में रुचि नही लेते हैं और पढ़ने के नाम से जी चुराते हैं। अतः पाठ्य वस्तु को कहानी के रुप में प्रस्तुत करना चाहिए,

जिससे शिक्षण में स्वाभाविक प्रवृति को प्रोत्साहन मिलता है। रामायण, महाभारत की कहानियें को विशेष महत्त्व दिया जाए। आग की खोज की कहानी, मनुष्य की खोज कहानियाँ सुनाई जाए। छोटे बच्चों में कहानियों को सार्थक बनाने तथा स्पष्टीकरण के लिये, चित्रों मानचित्रों और फोटो की सहायता ली जा सकती है। गौतम बुद्ध, अशोक, कौरव व पाण्डवों की कहानियों को चित्रों की सहायता से अधिक बोद्यगम्य बनाया जा सकता हैं।

कहानियों के प्रकार (Types of Stories)


कथात्मक विधि में सावधानियाँ (Precautions in Story Telling Method)


 कहानी विधि के लाभ (Merits of Story Telling Method)


 कथात्मक विधि की सीमाएं (Limitations of Story Telling Method)


नोटआपको हमारी पोस्ट कैसी लगीकृपया कमेंट करके ज़रूर बताए  

Post a Comment Blogger

 
Top