निर्देशन एवं परामर्श :- Guidance and Counselling

निर्देशन का अर्थ मार्ग दिखाना सहायता करना जिससे व्यक्ति यह निष्चित कर सके कि वह अपने उद्देश्य को किस प्रकार से प्राप्त कर सकता है। निर्देशन एक प्रकार की व्यक्तिगत सहायता है जो किसी निपुण व्यक्ति के द्वारा दी जाती है।
निर्देशन द्वारा व्यक्ति के अन्दर वह अन्र्तदृष्टि उत्पन्न की जाती है जिसमें वह स्वयं अपनी समस्याओं का समाधान करने में समर्थ होता है। निर्देशन के द्वारा व्यक्ति को अपनी बुद्धि योग्यताओं, क्षमताओं, अभिरूचियों और व्यक्तित्व संबंधी विषेषताओं का ज्ञान प्राप्त होता है जिससे वह अपने जीवन को अच्छा बनाता है। इस प्रकार निर्देशन व्यक्ति के जीवन के लक्ष्य निष्चित करने में, उसके जीवन में सामंजस्य स्थापित करने में तथा उसकी समस्याओं को सुलझाने में सहायता प्रदान करता है।

निर्देशन की परिभाषाएं:-

क्रो एण्ड क्रो- ‘‘निर्देशन वह सहायता है जो निपुण परामर्शदाताओं द्वारा किसी भी आयु के व्यक्ति को अपने जीवन के कार्यो को व्यवस्थित करने वाले दृष्टिकोण को विकसित करने, अपने निर्णयों का निष्चित करने तथा अपने उत्तरदायित्वों को वहन करने के लिए दी जाती है।’’

जोन्स - ‘‘निर्देशन वह व्यक्तिगत सहायता है जो व्यक्ति को आत्म निर्देशन के विकास में सहायता देती है। यह सहायता व्यक्ति विषेष को अपना व्यक्ति समूह को दी जाती है। इसमें व्यक्ति पर ध्यान केन्द्रित किया जाता है। इसमें व्यक्ति महत्वपूर्ण होता है समस्या नहीं।’’

गुड- ‘‘निर्देशन व्यक्ति के दृष्टिकोणों और उसके बाद के व्यवहार को प्रभावित करने के उद्देश्य से स्थापित अन्र्तवैयक्तिक संबंधों की प्रक्रियाप है।’’

निर्देशन के प्रकार :-

बालको के हेतु निर्देशन की आवश्यकता एवं महत्व:

निर्देशन एवं परामर्श (Guidance and Counselling), निर्देशन के प्रकार, बालको के हेतु निर्देशन की आवश्यकता एवं महत्व, बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र, शिक्षा मनोविज्ञान, Child Development and Pedagogy, Educational Psychology, CTET Exam Notes, TET Study Material, NET, B.ED, M.ED Study Notes.


 शैैक्षिक निर्देशन की उपयोेगिता:-

1) पाठ्यविषयों के चयन में सहायता करता है।
2) व्यक्तित्व के निर्माण में सहायक है।
3) विद्यालयों मे विद्यार्थियों के समायोजन में उपयोगी।
4) विद्यार्थियों की अध्ययन संबंधी प्रेरणा को प्रोत्साहित करने में उपयोगी।
5) विद्यार्थियों की उच्च षिक्षा प्राप्त करने के संबंध में निर्णय करने में उपयोगी।
6) विषिष्ट बालकों की समस्या हल करने में उपयोगी।
7) विद्यालयों में अनुषासन स्थापित करने में उपयोगी।
8) अपव्यय एवं अवरोधन को दूर करने में सहायक।
9) बेकारी की समस्या के समाधान में सहायक।
10) पाठ्यक्रम षिक्षण विधि विद्यालय व्यवस्था आदि षिक्षा के विभिन्न क्षेत्रों में होने वाले परिवर्तनों को समझने और उनके अनुरूप कार्य करने मंे सहायक है

Post a Comment Blogger

 
Top