स्मृृति (Memory) का अर्थ व परिभाषा:-

स्मृति एक मानसिक क्रिया है। स्मृति का आधार अर्जित अनुभव है, इनका पुनरूत्पादन परिस्थिति के अनुसार होता है। हमारे बहुत से मानसिक संस्कार स्मृति के माध्यम से ही जाग्रत होते है।

स्र्टर्ट एवं ओकडन के अनुसार स्मृति एक जटिल शारीरिक और मानसिक प्रक्रिया है जिसे हम थोड़े शब्दों में इस प्रकार स्पष्ट कर सकते है कि हम किसी वस्तु को छूते, देखते, सुनते या सूंघते है तब हमारे ज्ञात वाहक तन्तु (Sensory Nerves) उस अनुभव को हमारे मस्तिष्क के ज्ञान केन्द्र (Sensory Centre) में पहुंचा देते है। ज्ञान केन्द्र में उस अनुभव की प्रतिमा बन जाती है जिसे ‘छाप’ (Engram) कहते है। यह छाप वास्तव में उस अनुभव का स्मृति चिन्ह (Memory Trace) होती है जिसके कारण मानसिक रचना के रूप में कुछ परिवर्तित हो जाता है। यह अनुभव कुछ समय तक हमारे चेतन मन में रहने के बाद अचेतन मन में चला जाता है और हम उसको भूल जाते है। उस अनुभव के अचेतन मन में संचित रखने और चेतन मन में लाने की प्रक्रिया को स्मृति कहते है। दूसरे शब्दों में पूर्व अनुभवों को अचेतन मन में संचित रखने और आवश्यकता पड़ने पर चेतन मन में लाने की शक्ति को स्मृति कहते है।

1. वुडवर्थ- ‘‘जो बात पहले सीखी जा चुकी है, उसे स्मरण रखना ही स्मृति है।’’
2. स्टाउट- ‘‘स्मृति एक आदर्श पुनरावृत्ति है।’’
3. मैक्डूगल- ‘‘स्मृति से तात्पर्य अतीत की घटनाओं की कल्पना करना और इस तथ्य को पहचान लेना भी ये अतीत के अनुभव है।’’

स्मृृति के अवयव (अंग):-

स्मृति एक जटिल मानसिक प्रक्रिया है। वुडवर्थ के अनुसार स्मृति या स्मरण की पूर्ण क्रिया के निम्नांकित अंग, पद या खंड होत हैः-

अच्छी स्मृृति के लक्षण:-

जीवन में वही व्यक्ति सफलता के शिखर पर शीघ्र पहुंचता है जिसकी स्मृति अच्छी होती है। ऐसा व्यक्ति भूतकाल की घटनाओं का स्मरण कर, वर्तमान में उनका लाभ उठाकर, भविष्य को अच्छा बनाता है।

स्टाउट के अनुसार ‘‘अच्छी स्मृति में निम्नलिखित गुण, लक्षण या विशेषताएं होती हैः-



स्मृृति की उन्नति के उपाय:-

एवेलिंग के अनुसार ‘‘वास्तव में स्मृति में उन्नति हमारी स्मरण करने की विधियों में उन्नति के अतिरिक्त और कुछ नहीं’’। इस कथन की सत्यता के बावजूद भी कुछ उपाय या नियम ऐसे है जो स्मृति की उन्नति में सहायता देते हैः-
स्मृृति (Memory), स्मृृति के अवयव (अंग), अच्छी स्मृृति के लक्षण, स्मृृति की उन्नति के उपाय, बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र, शिक्षा मनोविज्ञान, Child Development and Pedagogy, Educational Psychology, CTET Exam Notes, TET Study Material, NET, B.ED, M.ED Study Notes.
यदि बालक इन नियमों और विधियों के अनुसार स्मरण करने का अभ्यास करें तो वे अपनी स्मृति को निश्चित रूप से प्रशिक्षित करके अपनी स्मरण शक्ति उन्नत कर सकते है। मैक्ड्गल का यह कथन अक्षरशः सत्य है ‘‘अभ्यास द्वारा स्मृति में अत्यधिक उन्नति की जा सकती है।’’

<< बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र

Post a Comment Blogger

 
Top