Facebook

 

श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द
श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द

Words with Different Meanings and Same Pronunciation   (श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द) ये शब्द चार शब्दों से मिलकर बना है , श्रुति...

Read more »

आधुनिक काल की प्रमुख काव्य प्रवत्तिया
आधुनिक काल की प्रमुख काव्य प्रवत्तिया

छायावाद  आधुनिक हिंदी कविता का तीसरा चरण छायावाद के नाम से जाना जाता है । यह काव्यधारा प्रकृति चित्रण , कल्पना और सूक्ष्म अभिव्यक्ति क...

Read more »

 उच्चारणगत अशुद्धि (Pronunciation Errors)
उच्चारणगत अशुद्धि (Pronunciation Errors)

उच्चारणगत अशुद्धियाँ  = बोलने और लिखने में होने वाली   अशुद्धियाँ प्राय : दो प्रकार की होती हैं|   - व्याकरण सम्बन्धी तथ...

Read more »

हिंदी साहित्य का काल विभाजन
हिंदी साहित्य का काल विभाजन

CTET 2015 EXAM NOTES कविता की  दृष्टि से हिंदी साहित्य का काल विभाजन  कविता के उद्देश्यों  के निर्धारण, कविता की शिक्षण अधिगम प्...

Read more »

Hindi- अपठित बोध
Hindi- अपठित बोध

अपठित बोध निर्देश : कविता की पंक्तियाँ पढ़ कर निम्मलिखित प्रशनों में सबसे उच्चित विकल्प चुनिए | नाव

Read more »

वाक्य अशुद्धि शोधन
वाक्य अशुद्धि शोधन

वाक्य अशुद्धि शोधन  = सार्थक एवं पूर्ण विचार व्यक्त करने वाले शब्द समूह को वाक्य कहा जाता है ! प्रत्येक भाषा का मूल...

Read more »

अल्पप्राण और महाप्राण
अल्पप्राण और महाप्राण

अल्पप्राण और महाप्राण  :- जिन वर्णों के उच्चारण में मुख से कम श्वास निकले उन्हें  ' अल्पप्राण  '  कहते हैं  |

Read more »

अनेकार्थी शब्द
अनेकार्थी शब्द

अरुण - लाल , सूर्य का सारथि , सूर्य   अज - दशरथ के    पिता  , बकरा , ब्रह्मा   अर्णव - समुंद्र , सूर्य , इंद्र   आम - आम...

Read more »

रस
रस

रस   का शाब्दिक अर्थ है ' आनन्द ' । काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है , उसे ' रस '...

Read more »

प्रमुख छंदों का परिचय
प्रमुख छंदों का परिचय

1 . चौपाई   - यह मात्रिक सम छंद है। इसमें चार चरण होते हैं . प्रत्येक चरण में सोलह मात्राएँ होती हैं . पहले चरण की तु...

Read more »

छंद
छंद

छंद -   "   अक्षरों की संख्या एवं क्रम , मात्रा गणना तथा यति - गति के सम्बद्ध विशिष्ट नियमों   से नियोजित पघरचना &#...

Read more »

अव्यय ( अविकारी शब्द )
अव्यय ( अविकारी शब्द )

अविकारी शब्द  - जिन शब्दों जैसे क्रियाविशेषण , संबंधबोधक , समुच्चयबोधक , तथा   विस्मयादिबोधक आदि के स्वरूप में किसी भी कारण ...

Read more »

वृत्ति
वृत्ति

वृत्ति का अर्थ है मन : स्थिति। इसे क्रियार्थ भी कहते हैं। वक्ता जो कुछ भी कहता है , वह मन : स्थिति अर्थात मन ...

Read more »

अन्विति
अन्विति

जब वाक्य के संज्ञा पद के लिंग , वचन , पुरुष , कारक के अनुसार किसी दूसरे पद में समान परिवर्तन हो जाता है तो उसे अन्व...

Read more »

क्रिया का पक्ष
क्रिया का पक्ष

\ क्रिया के जिस रूप से क्रिया प्रक्रिया अर्थात क्रिया व्यापार का बोध होता है , उसे क्रिया का पक्ष   कहते हैं  |  यह...

Read more »

Recent In Internet

 
Top