2 September 2019

निर्वाचन आयोग ने ‘इलेक्टर वेरिफिकेशन प्रोग्राम’ का शुभारंभ किया

निर्वाचन आयोग ने ‘इलेक्टर वेरिफिकेशन प्रोग्राम’ का शुभारंभ किया


निर्वाचन आयोग ने 01 सितंबर 2019 को पूरे देश में ‘इलेक्‍टर वेरिफिकेशन प्रोग्राम’ (EVP) लॉन्च किया है. निर्वाचन आयोग ने मतदाता विवरणों को सत्यापित और प्रमाणित करने के लिए वन स्टॉप सॉल्यूशन का शुभारंभ किया है.
इस कार्यक्रम को 32 सीईओ ने राज्‍यों/केंद्र शासित प्रदेशों में, 700 डीईओ ने जिलों में और करीब 10 लाख मतदान केंद्रों में बीएलओ/ईआरओ ने देश में सभी स्‍तरों पर शुरुआत की है. यह कार्यक्रम 01 सितंबर 2019 से 15 अक्‍टूबर 2019 तक चलेगा.
कार्यक्रम का मुख्‍य उद्देश्‍य
कार्यक्रम का मुख्‍य उद्देश्‍य मतदाता सूची को बेहतर बनाना है, नागरिकों को बेहतर मतदात सेवाएं प्रदान करना है तथा आयोग तथा मतदाताओं के बीच संवाद को बेहतर बनाना है.
यह काम कैसे करेगा?
इस कार्यक्रम के तहत, मतदाता एनवीएसपी पोर्टल (nvsp.in) या मतदाता हेल्‍प लाइन एप या साझा सेवा केंद्रों या निकट के किसी मतदान सुविधा केन्‍द्र पर जाकर अपने विवरण को सत्यापित या प्रमाणित कर सकते हैं. सभी मतदाताओं को इस कार्यक्रम के तहत अपने पहचान पत्र के सत्यापन हेतु अपनी जानकारी चुनाव कार्यालय की वेबसाइट पर अपडेट करनी होगी. ईवीपी कार्यक्रम का लाभ ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से लिया जा सकता है.
ईवीपी कार्यक्रम के तहत मतदाता निम्‍न सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं:
•   वर्तमान विवरणों की जांच और सुधार
•   निम्‍न दस्‍तावेजों के जरिए प्रविष्टियों का सत्‍यापन/प्रमाणन करना
(i) भारतीय पासपोर्ट
(ii) ड्राइविंग लाइसेंस
(iii) आधार कार्ड
(iv) राशन कार्ड
(v) सरकारी/अर्द्ध सरकारी कर्मियों का पहचान पत्र
(vi) बैंक खाता
(vii) किसान पहचान कार्ड
(viii) पेन कार्ड
(ix) आरजीआई द्वारा जारी स्‍मार्ट कार्ड
(x) पानी/बिजली/टेलिफोन/गैस कनेक्‍शन का नवीनतम बिल
•   परिवार के सदस्‍यों का विवरण देना और उनकी प्रविष्टियों की जांच
•   परिवार के सदस्‍य जिनके नाम मतदाता सूची में हैं और जो स्‍थायी रूप से अन्‍य जगह जा चुके हैं या जिनकी मृत्‍यु हो गई है के विवरणों को अद्यतन करना.
•   बेहतर मतदात सेवाओं हेतु मोबाइल एप के माध्‍यम से आवास के जीआईएस को जोड़ना.
•   वर्तमान के मतदान केंद्र के बारे में अनुभव साझा करना और अगर कोई अन्‍य वैकल्पिक मतदान केंद्र है तो इसकी जानकारी देना.
इलेक्‍टर वेरिफिकेशन प्रोग्राम का महत्व
इस कार्यक्रम के तहत मोबइल नंबर को साझा करने से मतदाताओं को ऑनलाइन आवेदन की स्थिति, ईपीआईसी की स्थिति, मतदान दिवस की घोषणाएं, मतदाता स्लिप इत्यादि से संबंधित जानकारी उनके पंजीकृत ईमेल और मोबाइल नंबर पर दी जाएगी.
मतदाता सूची की क्रमसंख्‍या में बदलाव, मतदान केंद्र का ब्‍यौरा बीएलओ/ईआरओ में बदलाव से संबंधित मतदान केंद्र की सभी जानकारी मतदाताओं के साथ साझा की जाएगी. इस कार्यक्रम की शुरुआत चुनाव आयोग ने अपने परिजनों के विवरणों का सत्‍यापन और प्रमाणन करके की.

.
Click here to join our FB Page and FB Group for Latest update and preparation tips and queries

https://www.facebook.com/tetsuccesskey/

https://www.facebook.com/groups/tetsuccesskey/

No comments:

Post a Comment