27 December 2019

बुद्धि मापन और बुद्धि परीक्षण और बुद्धि परीक्षण के प्रकार

बुद्धि मापन और बुद्धि परीक्षण और बुद्धि परीक्षण के प्रकार

Image result for study notes"
शेयर करें

व्यक्ति में बुद्धि के स्तर का पता लगाने के लिए बुद्धि मापन का प्रयोग किया जाता है। क्योंकि की ऐसा जरूरी नहीं है कि किन्ही दो व्यक्तियों का बुद्धि स्तर एक समान हो।

लेकिन एक सवाल यह भी उठता है, कि क्या हम बुद्धि को माप सकते हैं ? इसका उत्तर है पूरी तरह नहीं

हाँ, हम बुद्धि का पूरी तरह से मापन नहीं कर सकते हैं, क्योंकि बुद्धि अमूर्त होती है। यहाँ अमूर्त से मतलब है कि हम बुद्धि को देख, सुन, नाप, तौल, आदि नही कर सकते हैं।

तो क्या हम बुद्धि को नहीं माप सकते हैं? हाँ हम बुद्धि को पूरी तरह तो नही माप सकते पर लगातार मनोवैज्ञानिकों ने इस पर लगातार अध्ययन करके कई तरह के बुद्धि परीक्षण की सहायता से बुद्धि का मापन के तरीकों को खोजा है।

विभिन्न प्रकार के बुद्धि परीक्षण से हम बुद्धि को पूरी तरह से तो नहीं माप सकते लेकिन व्यक्तियों की बुद्धि शक्ति का तुलनात्मक रूप से अध्ययन कर सकते हैं।

बुद्धि परीक्षण क्या है ?

बुद्धि – परीक्षण का तात्पर्य किसी की मानसिक योग्यता का मापन करना है, अर्थात उसकी मानसिक योग्यताएँ और उनकी मात्रा का पता लगाना है।

बुद्धि – परीक्षण किसी प्रकार की समस्या होती है, जिसकी सहायता से एक व्यक्ति के मानसिक विकास के स्तर का अनुमान लगाया जा सकता है


– ड्रेवर

स्टैनफोर्ड-बिने बुद्धि मापन विधि

स्टैनफोर्ड – बिने बुद्धि मापन विधि में बुद्धि के मापन के लिए इसमें 90 प्रश्नों को रखा गया और जिनके जवाब 1000 बच्चों से लिया गया जिसके आधार पर बुद्धि – मापन के लिये एक सूत्र बनाया गया जिसे स्टैनफोर्ड – बिने बुद्धि मापन विधि कहते हैं।

स्टैनफोर्ड - बिने बुद्धि मापन विधि
बुद्धि लब्धि I.Q.
मानसिक आयु M.A.
वास्तविक आयु C.A.

बुद्धि परीक्षण के प्रकार

कई मनोवैज्ञानिकों ने अपनी-अपनी तरह से बुद्धि परीक्षण के तरीकों को बताया है, जिनमें एक दूसरे से भिन्नता भी पाई जाती है। लेकिन सभी परीक्षणों का उद्देश्य बुद्धि का मापन करना ही है।

हम विभिन्न प्रकार के बुद्धि परीक्षण को निम्नलिखित दो भागों में बांट सकते हैं।
1. क्रियान्वयन या प्रशासन के आधार पर
2. भाषा प्रयोग एवं कार्य निष्पादन के आधार पर

क्रियान्वयन या प्रशासन के आधार पर बुद्धि परीक्षण

प्रशासनिक या क्रियान्वयन बुद्धि परीक्षण के अंतर्गत पद्धति के आधार पर बुद्धि परीक्षण के दो प्रकार बताये गये हैं।
1. वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण
2. सामूहिक बुद्धि परीक्षण

वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण

वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण में एक समय में केवल एक ही व्यक्ति की बुद्धि का मापन किया जाता है। वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण में परीक्षण के चरण क्रियात्मक, शाब्दिक या अशाब्दिक किसी प्रकार के हो सकते हैं।

वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण में परीक्षणों के मानकीकरण में अत्यधिक समय और खर्च लगता है। वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण के उदाहरण –
परीक्षण वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण
पास-एलाँग परीक्षण वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण
घन रचना वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण

सामूहिक बुद्धि परीक्षण

सामूहिक बुद्धि परीक्षण में वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण के विपरीत एक समय में एक से अधिक व्यक्तियों की बुद्धि का मापन किया जा सकता है।

सामूहिक परीक्षणों का सबसे पहले प्रयोग प्रथम विश्वयुद्ध के समय हुआ था, जिसमें आर्मी अल्फा एवं आर्मी बीटा परीक्षणों का उपयोग किया गया था।

सामूहिक बुद्धि परीक्षणों का मानकीकरण वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण की तुलना में आसान है, और इसमें समय और धन भी वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण की तुलना में कम लागत है।

सामूहिक बुद्धि परीक्षण के उदाहरण में
मेहता : सामूहिक बुद्धि परीक्षण (1962)
आर. के. टण्डन : सामूहिक मानसिक योग्यता परीक्षण (1960) आदि शामिल हैं।

भाषा प्रयोग एवं कार्य निष्पादन के आधार पर बुद्धि परीक्षण

भाषा प्रयोग एवं कार्य निष्पादन के आधार पर बुद्धि परीक्षणों को निम्नांकित 4 भागों में बाँटा गया है–

  • शाब्दिक बुद्धि परीक्षण
  • अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण
  • क्रियात्मक बुद्धि परीक्षण
  • अभाषाई बुद्धि परीक्षण

शाब्दिक बुद्धि परीक्षण

शाब्दिक बुद्धि परीक्षण प्रकार के बुद्धि परीक्षण व्यक्ति की बुद्धि का मापन शाब्दिक प्रश्नों के द्वारा मौखिक अथवा लिखित रूप में प्रत्युत्तर प्राप्त कर किया जाता है।

शाब्दिक बुद्धि परीक्षण व्यक्तिगत और सामूहिक किसी भी स्तर पर किया जा सकता है। भाषा का उपयोग शाब्दिक बुद्धि परीक्षण को अधिक विश्वसनीय बना देता है, लेकिन भाषा के उपयोग के कारण ही शाब्दिक बुद्धि परीक्षण का उपयोग संकुचित हो जाता है।

शाब्दिक बुद्धि परीक्षणों से हम छोटे बच्चों, अशिक्षित व्यक्तियों और परीक्षण की भाषा न जानने वालों के बुद्धि का मापन नहीं किया जा सकता है।

अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण

अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण में शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जाता हैं। फ्रीमैन (1965) ने रैवेन प्रोग्रेसिव मैट्रिसीज को अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण का एक उत्तम उदाहरण बताया था।

अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण छोटे बच्चों, अशिक्षित व मानसिक रूप से कमजोर व्यक्तियों के लिए भी किया जा सकता है।

क्रियात्मक बुद्धि परीक्षण या निष्पादन बुद्धि परीक्षण

क्रियात्मक बुद्धि परीक्षण भाषा का प्रयोग निर्देश में हो भी सकता है, लेकिन ऐसे परीक्षणों के एकांशों में भाषा का प्रयोग बिल्कुल भी नहीं होता है, और परीक्षार्थी के सामने कुछ वस्तुयें वास्तविक रूप में उपस्थिति की जाती हैं। क्रियात्मक बुद्धि परीक्षण की निम्नलिखित तीन विशेषताएँ हैं –

  • इस प्रकार के परीक्षण के निर्देश में भाषा या संख्या का प्रयोग हो भी सकता और नहीं भी।
  • इस परीक्षण के पदों या एकांशों में भाषा का प्रयोग बिल्कुल भी नहीं होता है।
  • इस परीक्षण में व्यक्ति के सामने वस्तुओं को वास्तविक रूप में उपस्थित किया जाता है और उसमें उसे जोड़-तोड़ करना पड़ता है।

अभाषाई बुद्धि परीक्षण

अभाषाई बुद्धि परीक्षण भाषा के बन्धन से पूरी तरह मुक्त होता है। अभाषाई बुद्धि परीक्षण में भाषा का प्रयोग न तो एकांश में और न ही निर्देश में होता है।

अभाषाई बुद्धि परीक्षण में निर्देश हाव-भाव, निर्देशन, तथा चित्र अभिनय द्वारा दिया जाता है। अभाषाई बुद्धि परीक्षण में परीक्षार्थी को वस्तुओं का वास्तविक परिचालन भी नहीं करना होता है। गुड का ड्रा-ए-मैन परीक्षण और कैटल का संस्कृति मुक्त बुद्धि परीक्षण इसके प्रमुख उदाहरण हैं।

ये भी पढ़ें :-
• शाब्दिक बुद्धि परीक्षण और अशाब्दिक बुद्धि परीक्षण में अंतर
• वैयक्तिक बुद्धि परीक्षण और सामूहिक बुद्धि परीक्षण में अंतर


शेयर करें
. Click here to join our FB Page and FB Group for Latest update and preparation tips and queries

https://www.facebook.com/tetsuccesskey/

https://www.facebook.com/groups/tetsuccesskey/

No comments:

Post a comment