14 February 2020

बाल मनोविज्ञान।।

बाल मनोविज्ञान।।

Image result for study notes"
प्रश्‍न 1 – बुद्धि का संज्ञानात्‍मक सिद्धान्‍त किसने दिया ।
उत्‍तर – जीनप्‍याजे ने ।

प्रश्‍न 2 – बुद्धि का संवेगात्‍मक विकास का सिद्धान्‍त किसने दिया ।
उत्‍तर – गोलमैन ने ।

प्रश्‍न 3 – बुद्धि का संरचना सिद्धान्‍त किसने दिया ।  
उत्‍तर – आइजेन्‍क ने ।

प्रश्‍न 4 – बुद्धि का पदानुकृत संरचना सिद्धान्‍त किसने दिया ।  

उत्‍तर – फिलिप बर्नन ने ।

प्रश्‍न 5 – बुद्धि का एकीकृत संरचना सिद्धान्‍त किसने दिया ।  
उत्‍तर – J.P. गिलफोर्ड ने ।

प्रश्‍न 6 – बुद्धि का त्रिक – बिन्‍दु सिद्धान्‍त किसने दिया ।  
उत्‍तर – स्‍टर्न वर्ग ने ।
इन्‍होंनं बुद्धि को तीन भागों मे बांटा ।

1. विशलेषणत्‍मक बुद्धि 

2. व्‍यवहारिक बुद्धि

3. सृजानात्‍मक बुद्धि

प्रश्‍न 7 – जीनप्‍याजे  के  अनुसार  बुद्धि क्‍या  है।
उत्‍तर – जीनप्‍याजे के अनुसार बुद्धि वातावरण के साथ अनुकूलन करने की प्रक्रिया है।

प्रश्‍न 8 – अल्‍फ्रेड बिने के अनुसार बुद्धि के प्रकार बताईये ।  
उत्‍तर – अल्‍फ्रेड बिने के अनुसार बुद्धि चार शब्‍दों से मिलकर बनी है।
1. ज्ञान                    

2. अविष्‍कार

3. निर्देश                        

4. आलोचना


प्रश्‍न 9 – टर्मन के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – टर्मन के अनुसार – बुद्धि अमूर्त विचारों के बारे में सोचने की योग्‍यता है।

प्रश्‍न 10 – बुडवर्थ के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – बुडवर्थ के अनुसार – बुद्धि कार्य करने की एक विधि है।

प्रश्‍न 11 – स्‍टर्न के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – स्‍टर्न के अनुसार – बुद्धि एक सामान्‍य योग्‍यता है। जिसके द्वारा व्‍यक्ति नई परिस्थितियों के साथ समायोजन करता है।

प्रश्‍न 12 – बकिन्‍घम के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – बकिन्‍घम के अनुसार – सीखने की शक्ति ही बुद्धि है।


प्रश्‍न 13 – वैसलर के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – वैसलर के अनुसार – बुद्धि किसी कार्य को करने की , तार्किक चिन्‍तन करने की , वातावरण के साथ समायोजन करने की सामूहिक योग्‍यता होती है।

प्रश्‍न 14 – स्‍पीयर मैन के अनुसार बुद्धि की क्‍या परिभाषा है।  
उत्‍तर – स्‍पीयर मैन के अनुसार – बुद्धि तार्किक चिन्‍तन करने की योग्‍यता है।


प्रश्‍न 15 – सामान्‍यत: बुद्धि कितने प्रकार की है।   
उत्‍तर – सामान्‍यत: बु‍द्धि तीन प्रकार की होती है।
1. अमूर्त बुद्धि                    

2. मूर्त बुद्धि  ( यांन्त्रिक बुद्धि )

3. सामाजिक बुद्धि

प्रश्‍न 16 – अमूर्त बु‍द्धि सामान्‍यत: किन व्‍यक्तियों में पाई जाती है।  

उत्‍तर – अमूर्त बुद्धि सामान्‍यत: -
1. शिक्षक

2. लेखक

3. कलाकार

4. वैज्ञानिक   एवं आदि व्‍यक्तियों में ।

प्रश्‍न 17 – यांत्रिक बुद्धि या स्‍थूल बुद्धि किसे कहा जाता है।   
उत्‍तर – मूर्त बुद्धि को ।

प्रश्‍न 18 – मूर्त बुद्धि किन व्‍यक्तियों में पाई जाती है।
उत्‍तर – मूर्त बुद्धि निम्‍न व्‍यक्तियों में पाई जाती है –
1. इंजीनियर                  

2. फॉरमैन              

3. कम्‍प्‍यूटर आपरेटर  आदि

4. मैकेनिक

5. इलैक्‍ट्रीशियन

प्रश्‍न 19 – सामाजिक बुद्धि किन लोगो में पई जाती है।
उत्‍तर – सामाजिक बुद्धि निम्‍न लोगो मे पाई जाती है। -
1. सामाज सेवक          

2. बीमा का ऐजेन्‍ट

3. नेताजी

4. पंडित जी


प्रश्‍न 20 – एक कारक सिद्धान्‍त को और किस नाम से जाना जाता है।
उत्‍तर – एक कारक सिद्धान्‍त को राज‍कीय सिद्धान्‍त के नाम से जाना जाता है।

प्रश्‍न 22 – बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त कौन सा है।
उत्‍तर – बुद्धि का सबसे पुराना सिद्धान्‍त एक कारक सिद्धान्‍त है।

प्रश्‍न 22 – बुद्धि का द्विकारक सिद्धान्‍त किसने दिया।
उत्‍तर – स्‍पीयर मैन ने दिया।

प्रश्‍न 23 – स्‍पीयर मैन कहॉं के निवासी थे।  
उत्‍तर – स्‍पीयर मैन फ्रांस के निवासी थे।

प्रश्‍न 24 – स्‍पीयर मैन पहले किस विषय के प्रोफेसर थे।
उत्‍तर – स्‍पीयर मैन पहले संख्‍यकी विषय के प्रोफेसर थे बाद में मनोविज्ञान के प्रोफेसर बने।

प्रश्‍न 25 – स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध किस से बताया है।
उत्‍तर – स्‍पीयर मैन ने बुद्धि का सम्‍बन्‍ध चिन्‍तन से बताया है।

प्रश्‍न 26 – पियाजे के अनुसार निम्‍नलिखित में से कौन सी अवस्‍था है जिसमें बच्‍चा अमूर्त संकल्‍पनाओं के विषय में तार्किक चिंतन करना आरंभ करता है।
उत्‍तर – औपचारिक संक्रियात्‍मक अवस्‍था

प्रश्‍न 27 – बच्‍चों में बौद्धिक विकास की चार विशिष्‍ट अवस्‍थाओं की पहचान की गई।
उत्‍तर – पियाजे द्वारा

प्रश्‍न 28 – ‘’विकास कभी न समाप्‍त होने वाली प्रक्रिया है’’ यह विचार किससे संबंधित है।
उत्‍तर – निरन्‍तरता का सिद्धांत

प्रश्‍न 29 – वह अ रूप से वस्‍तुओं व घटनाओं के विषय में चिंतन प्रारंभ करता है।
उत्‍तर – मूर्त संक्रियात्‍मक अवस्‍था

प्रश्‍न 30 – किस अवस्‍था मे बच्‍चे अपने समवयस्‍क समूह के सक्रिय सदस्‍य हो जाते है।
उत्‍तर – किशोरावस्‍था

प्रश्‍न 31 – बच्‍चे के संज्ञानात्‍मक विकास को सबसे अच्‍छे तरीके से कहॉ परिभाषित किया जा सकता है।
उत्‍तर – विद्यालय एवं कक्षा में

प्रश्‍न 32 – पियाजे के अनुसार बौद्धिक विकास का निर्धारक तत्‍व नही है।
उत्‍तर – सामाजिक संचरण

श्‍न 33 – बालकों की सोच अमूर्तता की अपेक्षा मूर्त अनुभवों एवं प्रत्‍ययों से होती है। यह अवस्‍था है।
उत्‍तर – 7 से 12 वर्ष तक

प्रश्‍न 34 – संवेदी पेशीय अवस्‍था होती है।
उत्‍तर – 0 - 2 वर्ष तक

प्रश्‍न 35 – एक 13 वर्षीय बालक बात-बात में अपने बड़ों से झगड़ा करने लगता है और हमेशा स्‍वयं को सही साबित करने की कोशिश करता है वह विकास की कौन सी अवस्‍था है।
उत्‍तर – किशोरावस्‍था

प्रश्‍न 36 – ‘खिलौनों की आयु कहा जाता है।‘
उत्‍तर – पूर्व बाल्‍यावस्‍था को

प्रश्‍न 37 – उत्‍तर बाल्‍यावस्‍था में बालक भौतिक वस्‍तुओं के किस आवश्‍यक तत्‍व में परिवर्तन समझने लगता है।
उत्‍तर – द्रव्‍यमान,  संख्‍या और क्षेत्र

प्रश्‍न 38 – दूसरे वर्ष के अंत तक शिशु का शब्‍द भंडार हो जाता है।
उत्‍तर – 100 शब्‍द

प्रश्‍न 39 – शर्म तथा गर्व जैसी भावना का विकास किस अवस्‍था में होता है।
उत्‍तर – बाल्‍यावस्‍था

प्रश्‍न 40 – मैक्‍डूगल के अनुसार मूल प्रवृति ‘जिज्ञासा’ का संबंध कौन संवेग से है।
उत्‍तर – आश्चर्य

प्रश्‍न 41 – शैशवावस्‍था की मुख्‍य विशेषता नही है।
उत्‍तर – चिन्‍तन प्रक्रिया

प्रश्‍न 42 – किसी विद्यार्थी कह सबसे महत्‍वपूर्ण विशेषता है।
उत्‍तर – आज्ञाकारिता

प्रश्‍न 43 – मानवीय मूल्‍यों, जो प्रकृति में सार्वत्रिक हैं, के विकास का अर्थ है-
उत्‍तर – अभिव्‍यक्ति

प्रश्‍न 44 – किस स्‍तर के बच्‍चे अपने समकक्षी वर्ग के सक्रिय सदस्‍य बन जाते है।
उत्‍तर – किशोरावस्‍था

प्रश्‍न 45 – विकास शुरू होता है।
उत्‍तर – प्रसवपूर्ण अवस्‍था से

प्रश्‍न 46 – बहुविध बुद्धि सिद्धांत के अनुसार सभी प्रकार के पशुओं, खनिजों और पेड़-पौधों को पहचाने और वर्गीकृत करने की योग्‍यता .................. कहलाती है।
उत्‍तर – संज्ञानात्‍मक गतिविधि

प्रश्‍न 47 –पियाजे के अधिगम के संज्ञानात्‍मक सिद्धांत के अनुसार, वह प्रक्रिया जिसके द्वारा संज्ञानात्‍मक संरचना को संशोधित किया जाता है ................. कहलाती है।
उत्‍तर – समावेशन  

प्रश्‍न 48 – कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत प्रश्‍नों के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिंतन प्रक्रिया को कहा जाता है।
उत्‍तर – नैतिक तर्कणा

प्रश्‍न 49 – एक व्‍यक्ति अपने समकक्ष व्‍यक्तियों के समूह के प्रति आक्रामक व्‍यवहार करता है और विद्यालय के मानदंडों को नही मानता। इस विद्यार्थी को ..................... में सहायता की आवश्‍यकता है।
उत्‍तर – भावात्‍मक क्षेत्र

प्रश्‍न 50 – शिक्षक को यह सलाह दी जाती है कि वे उपने शिक्षार्थियों को सामूहिक गतिविधियों में शामिल करें, क्‍योंकि सीखने को सुगम बनाने के अतिरिक्‍त, ये.................... में भी सहायता करती है।
उत्‍तर – समाजीकरण 

प्रश्‍न 51 – ब्रूनर किस समप्रदाय के समर्थक थे।
उत्‍तर – संज्ञानवादी

प्रश्‍न 52 – कौन सा सिद्धान्‍त जीव विधि के हर क्षेत्र पर बल देता है।
उत्‍तर – क्षेत्रीय सिद्धान्‍त

प्रश्‍न 53 – गेस्‍टाल्‍ट का अर्थ क्‍या है।
उत्‍तर – सम्‍पूर्ण या समग्र

प्रश्‍न 54 – प्रतिस्‍थापन का सिद्धान्‍त किस वैज्ञानिक ने दिया।
उत्‍तर – गुथरी ने

प्रश्‍न 55 – स्‍वसिद्धान्‍त किसने दिया ।
उत्‍तर – कार्ल रोजर ने

प्रश्‍न 56 –आवश्‍यकता का पद सोपान सिद्धान्‍त किसने दिया।
उत्‍तर – आब्राहिम मौसले ने

प्रश्‍न 57 – अधिगम का अर्थ क्‍या है ।
उत्‍तर – सीखन

प्रश्‍न 58 – अधिगम से क्‍या तात्‍पर्य है।
उत्‍तर –मानव व्‍यवहार में होने वाला स्‍थाई परिवर्तन अधिगम कहलाता है।

प्रश्‍न 59 – अधिगम पूर्ण कब होगा।
उत्‍तर – मानव व्‍यवहार में स्‍थाई परिवर्तन हो जाये।

प्रश्‍न 60 – संज्ञान किसे कहते है।
उत्‍तर – किसी ज्ञान को ग्रहण करना ही संज्ञान कहलाता है।

प्रश्‍न 61 – व्‍यवहारवादी मनोविज्ञान के जनक कौन है।
उत्‍तर – वाटसन ।

प्रश्‍न 62 – मनोविज्ञान के जनक कौन है।
उत्‍तर – सिंगमड फ्रायड 

प्रश्‍न 63 – मनोविशलेषणात्‍मक मनोविज्ञान के जनक कौन है।
उत्‍तर – सिंगमड फ्रायड

प्रश्‍न 64 – अंधो की लिपि के जनक कौन है   
उत्‍तर – लुई ब्रेल

प्रश्‍न 65 – L . K . G व U . K . G  पद्धति के जनक कौन है।
उत्‍तर – फ्रोबेल

प्रश्‍न 66 – नर्सरी पद्धति के जनक कौन है।
उत्‍तर – मारिया
________________________________________
. Click here to join our FB Page and FB Group for Latest update and preparation tips and queries

https://www.facebook.com/tetsuccesskey/

https://www.facebook.com/groups/tetsuccesskey/

No comments:

Post a Comment