23 June 2020

भारतीय भूमि और कृषि

भारतीय भूमि और कृषि

Image result for study notes"
मिट्टी के प्रकार

मृदा हमारी प्रधान और प्राकृतिक संसाधन है! भारत एक कृषि प्रधान देश है, यहाँ की मिट्टी भारत की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
देश की कुल जनसंख्या का लगभग 65% से 70% कृषि पर निर्भर है।
हमारे उद्योग मुख्य रूप से कृषि आधारित उद्योग हैं।
आम तौर पर यहाँ भारत में छह प्रकार की मिट्टी पाई जाती हैं

१. अल्लुविअल या जलोढ़ मिट्टी
२. रेगुर या काली मिट्टी
३. लाल मिट्टी
४. लेटराइट की मिट्टी
५. रेगिस्तानी मिट्टी
६. पर्वतीय मिट्टी

अल्लुविअल या जलोढ़ मिट्टी
समुद्र और नदी द्वारा सामग्री के जमाव को जलोढ़क कहा जाता है और जलोढ़क मिट्टी के जमाव के कारण निर्मित हुई मिट्टी को ही जलोढ़ मिट्टी कहा जाता है।
इस तरह की मिट्टी भारत में मुख्य रूप से भारतीय-गंगा और ब्रह्मपुत्र के मैदान में पायी जाती है। यानि पूरे उत्तरी मैदान और दक्षिण के कुछ पठारी क्षेत्रों में नदी के बेसिन के कुछ भागों में पायी जाती है।
यह मिट्टी महानदी, गोदावरी, कावेरी और कृष्णा के डेल्टा में भी पायी जाती है।
जलोढ़ की मिट्टी को मोटे तौर पर दो प्रकार में वर्गीकृत किया जा सकता है अर्थात नई जलोढ़ मिट्टी और पुरानी जलोढ़ मिट्टी ।
पुरानी जलोढ़ मिट्टी नदी से दूर थोड़ा ऊंचा क्षेत्रों में पाई जाती हैं और ये मिट्टी चिकनी और चिपचिपी होती है।
नई जलोढ़ मिट्टी नदी की बाढ़ के मैदान में पाई जाती है और यह पुरानी जलोढ़ मिट्टी की तुलना में बहुत अधिक उपजाऊ होती है।
फसलें उगाई जाती हैं: जलोढ़ मिट्टी अनाज, कपास, तिलहन और गन्ने की तरह की रबी और खरीफ की फसल के लिए उपयुक्त होती है।

रेगुर या काली मिट्टी
रेगुर या काली मिट्टी महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश व मुख्य रूप से मालवा के लावा पठारपर बड़े पैमाने पर विकसित हुई है और यह ज्वालामुखीयों की गतिविधियों के कारण बनती हैं।
ये मिट्टी बहुत उपजाऊ हैं और इसमें चूने का एक उच्च प्रतिशत और पोटाश की एक मध्यम मात्रा होती है।
इस प्रकार की मिट्टी विशेष रूप से कपास की खेती के लिए अनुकूल है और इसलिए कभी-कभी इसे 'काली कपास मिट्टी' भी कहा जाता है।
फसलें उगाई जाती हैं: कपास, ज्वार, गेहूं, लिनसीड, चना, फल और सब्जी।

लाल मिट्टी
लाल मिट्टी कम वर्षा की स्थिति के तहत ग्रेनाइट और गेनेसेस चट्टानों पर विकसित होती है अर्थात रूपांतरित चट्टानों के अपक्षय के कारण विकसित होती है।
ये मिट्टी आयरन ऑक्साइड के उच्च सम्मिश्रण के कारण रंग में लाल होती है।
ये मिट्टी नाज़ुक और मध्यम उपजाऊ होती है और मुख्य रूप से तमिलनाडु, दक्षिण-पूर्वी कर्नाटक, उत्तर-पूर्वी और दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश, झारखंड, उड़ीसा के प्रमुख भागों, उत्तर-पूर्वी भारत के पठारों और पहाड़ियों के लगभग पूरे क्षेत्र में मिलती है।
इस मिटटी में फॉस्फोरिक एसिड, कार्बनिक पदार्थ और नाइट्रोजन सामग्री की कमी होती है।
फसलें उगाई जाती हैं: गेहूं, चावल, बाजरा की, दलहन।

लेटराइट मिट्टी
लेटराइट मिट्टी चिकनी मिटटी की चट्टान का एक प्रकार है यह मिट्टी उच्च तापमान और उच्च वर्षा के साथ वैकल्पिक सूखे और गीला रहने की अवधि के तहत गठित होती है
लेटराइट और लैटरिटिक मिट्टी दक्षिण महाराष्ट्र, केरल और कर्नाटक में पश्चिमी घाट, ओडिशा में कुछ स्थानों पर, छोटा नागपुर के छोटे भागों में और असम, तमिलनाडु, कर्नाटक, के कुछ हिस्सों में और पश्चिमी पश्चिम बंगाल में (विशेष रूप से बीरभूम जिले में) पाई जाती हैं।
फसलें उगाई जाती हैं
इस मिटटी में अम्लता के उच्च समावेश के कारण और और नमी बनाए रखने में अक्षमताके कारण इस तरह की मिट्टी कृषि के लिए अनुपयुक्त है ।

रेगिस्तानी मिट्टी
इस प्रकार की मिट्टी राजस्थान, हरियाणा और दक्षिण पंजाब में पाई जाती है और यह रेतीली होती है।
बारिश के पानी से पर्याप्त धुलाई के अभाव में यह मिट्टी खारी बन गई है, और इसीलिए ये खेती के लिए अयोग्य है।
इसके बावजूद आधुनिक सिंचाई की सहायता से यहाँ खेती की जा सकती है।
गेहूं, बाजरा, मूंगफली, आदि को इस मिट्टी में उगाया जा सकता है।
इस तरह की मिट्टी फॉस्फेट और कैल्शियम से भरपूर होती है लेकिन नाइट्रोजन और धरण की इसमें कमी होती है।

पर्वतीय मिट्टी
पहाड़ पर अधिक ऊंचाई पर पाई जाने वाली मिट्टी पर्वत की मिट्टी कहलाती है।
इस तरह की मिट्टी की विशेषताएँ ऊंचाई के हिसाब से बदल जाती हैं।
इस तरह की मिट्टी आलू, फल, चाय, कॉफी, मसालों और गेहूं की खेती के लिए उपयुक्त है।

भारत में कृषि के प्रकार
भारत में खेती की प्रदर्शित गतिविधियों के विभिन्न प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार हैं:

निर्वाह खेती:
निर्वाह खेती, खेती का एक प्रकार है, जिसमें लगभग सभी फसलों या पशुओं को बढ़ाया जाता है, थोड़ा सा किसान और किसान के परिवार के लिए छोड़कर व थोड़ा बनाए रखने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
निर्वाह खेत आम तौर पर अधिक नहीं सिर्फ कुछ एकड़ से मिलकर ही बनता है, और इसकी खेत प्रौद्योगिकी पुरातन हैं और कम उपज का ही हो पाता है।

मिश्रित खेती:
मिश्रित खेती एक कृषि प्रणाली है जिसमें एक किसान एक साथ अलग-अलग कृषि अभ्यास क्रिया आयोजित करता है, जैसे कि नकदी फसलों और पशुओं के रूप में।
उद्देश्य विभिन्न स्रोतों के माध्यम से आय बढ़ाने के लिए है और साल भर भूमि और श्रम की मांग को पूरक करने के लिए।

स्थानांतरण खेती:
स्थानांतरण खेती का मतलब है प्रवासी कृषि का स्थानांतरण।
इस प्रणाली के तहत जमीन के एक भूखंड में कुछ वर्षों के लिए खेती की जाती है और फिर, जब मिट्टी में थकावट की वजह से फसल की पैदावार में गिरावट आती है और कीट और जंगली पौधों का प्रभाव बढ़ता है, तब खेती का एक किसी और सूनसान क्षेत्र के लिए स्थानांतरण किया जाता है।
यहां जमीन को फिर से कांट-छांट व जलाने की विधियों को करके साफ़ किया जाता है, और प्रक्रिया को दोहराया है।
खेती स्थानांतरण असम के वन क्षेत्रों में प्रमुख है (जहाँ इसे झूम के रूप में जाना जाता है), मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, त्रिपुरा, मिजोरम, अरुणांचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, उड़ीसा और आंध्र प्रदेश (पोडू)।

व्यापक कृषि:
यह खेती की एक प्रणाली है जिसमें किसान अपेक्षाकृत बड़े क्षेत्र पर सीमित मात्रा में श्रम और पूंजी का उपयोग करता है।
इस प्रकार की कृषि उन देशों में प्रचलित है, जहां आबादी का आकार छोटा है और कृषि के लिए पर्याप्त भूमि उपलब्ध है।
इसमें प्रति एकड़ उपज तो कम है लेकिन कुल उत्पादन कम आबादी के कारण अधिशेष में होता है।
यहां मशीनों और प्रौद्योगिकी का खेती में प्रयोग किया जाता है।

गहन कृषि:
यह खेती की एक प्रणाली है जिसमें कृषक एक अपेक्षाकृत छोटे से क्षेत्र पर श्रम और पूंजी की बड़ी राशि का उपयोग करता है।
खेती के इस प्रकार का उपयोग उन देशों में किया जाता है कि जहां भूमि के अनुपात में जनसंख्या उच्च है अर्थात आबादी बड़ी है और भूमि छोटी है।
सालाना फसलों के दो या तीन प्रकार भूमि पर उगाये जा रहे हैं।
शारीरिक श्रम प्रयोग किया जाता है।

बागान कृषि:
इस प्रकार की खेती में मुख्य रूप से कृषि नकदी फसलों की खेती करते हैं।
इसमें एक ही तरह की फसल जैसे रबर, गन्ना, कॉफी, चाय आदि ऊगाई जाती हैं।
इन फसलों में निर्यात के प्रमुख आइटम हैं।
.

Click here to join our FB Page and FB Group for Latest update and preparation tips and queries

https://www.facebook.com/tetsuccesskey/

https://www.facebook.com/groups/tetsuccesskey/

No comments:

Post a comment